अब मेडिकल स्टाफ को नहीं होगी मुश्किल, कोविड-19 से लड़ने के लिए सीम सीलिंग ग्लू के साथ जैविक सूट तैयार

0
57 views

अब मेडिकल स्टाफ को नहीं होगी मुश्किल, Corona से लडने ke liye कोविड-19 से लड़ने के लिए सीम सीलिंग ग्लू के साथ जैविक सूट तैयार

डीआरडीओ ने कोविड-19 से मुकाबला करने वाले मेडिकल, पैरामेडिकल और अन्य कर्मियों को जानलेवा वायरस से बचाने के लिए जैविक सूट तैयार कर लिया है। डीआरडीओ के प्रयोगशालाओं के वैज्ञानिकों ने इसके लिए देसी तकनीकी का इस्तेमाल करते व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण यानी पीपीई तैयार किया किया है। इसके लिए टेक्सटाइल, कोटिंग और नैनोटेक्नालजी की दक्षता का उपयोग किया गया है, जिसमें कोटिंग के साथ खास किस्म के कपड़े शामिल हैं।

 

इस सूट को इंडस्ट्री की मदद से तैयार किया गया है। इसका टेक्सटाइल मापदंडों के साथ-साथ आर्टिफिशियल ब्लड से सुरक्षा के लिए टेस्ट किया गया है।
डीआरडीओ का दावा है कि इन सूटों का उत्पादन बड़ी संख्या में किया जा सकता है और यह कोविड-19 का मुकाबला करने वाले फ्रंटलाइन  मेडिकल, पैरामेडिकल और अन्य कर्मियों के लिए मजबूत सुरक्षा देगा। फिलहाल प्रतिदिन 7,000 सूट तैयार करने की योजना है।

परिधान प्रौद्योगिकी में अनुभव रखने वाले एक अन्य विक्रेता को भी साथ लाया जा रहा है और उत्पादन क्षमता को प्रति दिन 15,000 सूट तक बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।
डीआरडीओ ने पनडुब्बी अनुप्रयोगों में इस्तेमाल की जाने वाली सीलेंट के आधार एक विशेष सीलेंट तैयार किया है।

डीआरडीओ के मुताबिक उसने “केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर (सीबीआरएन) एजेंटों के खिलाफ सुरक्षा के लिए कई उत्पादों और तकनीकों को विकसित किया है। रक्षा अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (डीआरडीई) ग्वालियर, डीआरडीओ की एक प्रयोगशाला, ने केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर (सीबीआरएन) पारगम्य सूट एमके वी को विकसित किया है।  53,000 सूटों की आपूर्ति सेना और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) को की जा चुकी है।”

The short URL of the present article is: https://www.sachjano.com/9S6ia