योगी के पिता आनंद सिंह बिष्ट का निधन, कैसे पाला था उन्होंने योगी को?

0
210 views

सोमवार सुबह जब योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट के निधन की खबर आई तब योगी अपने अधिकारियों के साथ मीटिंग कर रहे थे। इस खबर के बावजूद बैठक नहीं रुकी। महत्वपूर्ण आदेश पारित किए गए। कोरोना को लेकर चल रहे माहौल के बीच योगी आदित्यनाथ के लिए पिता की मृत्यु पर दुख जाहिर करने के साथ साथ करोडों प्रदेश वासियों की रक्षा का कर्तव्य भी है।

1994 के बाद से योगी ने पारिवारिक जीवन का त्याग कर दिया था। लेकिन जिंदगी के वो 22 वर्ष योगी अदित्यानाथ नहीं भुला सकते जब हर पल पिता ने उन्हें आगे बढ़ना सिखाया।

योगी आदित्यनाथ का जन्म जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी जिले में पंचुर नाम के गांव में हुआ था। उनके पिता आनंद सिंह बिष्ट फारेस्ट विभाग में काम करते थे। वो फारेस्ट रेंजर थे।

आन्नद सिंह बिष्ट की 7 संतान थीं । योगी आदित्यनाथ तीन बड़ी बहनों और एक बड़े भाई के बाद ये पांचवें हैं। योगी के दो चजोते भाई भी हैं। लेकिन ये सभी अपनी अपनी साधारण जिंदगी बिताते हैं। बेटे के मुख्यमंत्री बनने के बावजूद आन्नद सिंह बिष्ट गांव में ही रहे। और उनके लाइफस्टाइल में कोई बदलाव नहीं आया।

आनंद सिंह बिष्ट ने 1977 में  योगी को टिहरी के स्कूल में भर्ती करवाया। वहीं से योगी ने 10वी की परीक्षा पास की। इसके बाद पिता जी ने उनका दाखिला ऋषिकेष के श्री भरत मन्दिर इण्टर कॉलेज में कर दिया वहां से योगी ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। पिता ने योगी की पढ़ाई का पूरा ध्यान रखा उन्हें श्रीनगर गढ़वाल से गणित विषय में बीएससी करवाई। इसके बाद योगी राजनीतिक कार्यक्रमों में दिलचस्पी लेने लगे। और फिर गुरु गोरखनाथ के महंत की शरण में ही चले गए और दीक्षा ले ली।

1994 में योगी संन्यासी हो गए। और वो अजय सिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ हो गए। लेकिन योगी का परिवार से संपर्क बना रहा।

12 सितंबर 2014 को गोरखनाथ के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के निधन हो गया। वो योगी के आध्यात्मिक पिता थे। आज योगी एक और अपूर्णीय क्षति का सामना कर रहे हैं। लेकिन कर्तव्य की राह पर वो आज भी कायम हैं।

95c7cdc0-f40f-4414-a565-e4d43aeb4ed3

The short URL of the present article is: https://www.sachjano.com/4QdYV