लॉकडाउन में रेलवे ऐसे कमा चुका है साढ़े सात करोड़ रुपए..

0
199 views

भारतीय रेल ने लॉकडाउन के दौरान ज़रूरी समान का एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने के लिए छोटे आकारों में पार्सल वैन मुहैया करवाए। इससे सप्लाई चैन मजबूत हुई और रेलवे की कमाई भी ही गई।

इस वक़्त इन ट्रेनों का संचालन 65  मार्गों पर किया जा रहा है; 14  अप्रैल तक ऐसी कुल 507 ट्रेनें चलीं हैं।
कोविड – 19 के कारण हुए लॉकडाउन को देखते हुए चिकित्सा आपूर्ति, चिकित्सा उपकरण, खाद्य आदि आवश्यक वस्तुओं का परिवहन छोटे पार्सल साइज में किया जाना बहुत महत्वपूर्ण है। इसे पूरा करने के लिए, भारतीय रेल ने त्वरित परिवहन को ध्यान में रखते हुए रेलवे पार्सल वैन उपलब्ध कराये हैं, जिसका उपयोग  ई-कॉमर्स संस्थाओं और राज्य सरकारों सहित अन्य ग्राहकों द्वारा किया जा सकता है। रेलवे ने आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए चुनिंदा मार्गों पर समय-सारिणी के अनुसार पार्सल स्पेशल ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया है।

जोनल रेलवे इन पार्सल स्पेशल ट्रेनों के लिए नियमित रूप से मार्गों की पहचान कर रहा है और इसकी सूचना दे रहा है। वर्तमान में ये ट्रेनें पैंसठ (65) मार्गों पर संचालित की जा रही हैं।

14 अप्रैल की शाम तक रेलवे ने 77 ट्रेनें चलाई, जिनमें1835 टन सामान का लदान हुआ, जिससे एक दिन में रेलवे को 63 लाख रुपये की आय हुई।

लॉक डाउन शुरू होने से 14 अप्रैल तक ऐसी 522 ट्रेनें चली, जिनमें से 458 समय-सारिणी के आधार पर चलने वाली ट्रेनें थीं। 20, 474 टन की खेप लोड की गई, और इससे लगभग 7.54 करोड़ रुपए की आय हुई है।

The short URL of the present article is: https://www.sachjano.com/oOAdG