#FactCheck: 10 सेकंड सांस रोककर पता चल जाएगा कि कोरोना है कि नहीं? सांस वाले टेस्ट का सच जानो

0
1,299 views

मीडिया, सोशल मीडिया, अल्टरनेटिव मेडिसिन के एक्सपर्ट कोरोना को लेकर अलग अलग दावे कर रहे हैं। इन्हीं दावों के बीच कोरोना जांचने का एक टेस्ट बड़ी तेज़ी से वायरल हो रहा है। कहा जा रहा है कि अगर कोई इंसान 10 सेकंड तक बगैर खांसे सांस रोक ले तो उसे कोरोना नहीं है।

इसकी जांच के लिए हमने कुछ एक्सपर्ट्स से बात की। सांस रोग के विशेषज्ञों ने बताया कि कोरोना सिर्फ सांस की बीमारी नहीं है। कोरोना से संक्रमित कई लोगों में तो रोग के लक्षण भी नहीं दिखाए देते। इसका मतलब ये हुआ कि सांस रोकने भर से इंसान ‘कोरोना प्रूफ’ नहीं हो जाता।

इसी बीच एक और बात का खुलासा हुआ। कोरोना से संक्रमित कई नौजवान बगैर खांसे 10 सेकंड तक सांस रोक सकते हैं। यानी हर जगह प्रचारित किया जा रहा कोरोना का ‘ सांस टेस्ट ‘ मनगढ़ंत है और इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।

आप सबसे निवेदन है कि ऐसे फर्जी मेसेजेस को आगे ना बढ़ने दें और अगर कोई ऐसा मैसेज आपको भेज रहा है तो उसके साथ ये आर्टिकल शेयर करें। आपको बता दें कि भारत सरकार ने भी सांस वाले टेस्ट के मैसेज को फर्जी करार दे दिया है।0875e9f0-044f-4b8b-9b79-e84350cf43d1

The short URL of the present article is: https://www.sachjano.com/PiUF0